Things which you have to remember always…

*Never waste Chetali’s time in fight or any illogical political debate.

* You know that you both love each other a lot and may be the structure of love has changed. It doesn’t mean that the love has ended between you and vice versa.

* If you truly love her then let her do what she wants. If you are restricting her, it simply means that you don’t love her. Love is all about freedom and the deep emotional attachment or bond which you both have shared. Love doesn’t mean patriarchy.

* If you will focus more on your present then you know yourself that you can give her a great future of love, compassion and integrity.

* Whenever negative thoughts start racing inside your mind then just think about the positive moments which you both have shared together.

*Just spend the time with her compassionately which you both have now, because these memories will be the weapon of love in future.

*Never let your emotional mind get over the rationale mind. Simply, never show her your emotions.

*And in last, if the situation is not under control then let her go to live her life and simply move out of her life without any reactions. She once told you about a movie named “Jalebi”. And at that time she was not knowing that it was affecting her subconcious mind, through which a thought was inserted in her mind that If you really love someone then let them go. The hindi dialouge was ” unse mohabbat kamal ki hoti jinka milna mukkadar mein nahi hota” This may be the reason that she behaves very normally now a day when you show her emotions. But she doesn’t know the psychology of a fictional writer and with the societal hierarchy of India she may have believed the writing of the writer. You know very well how mass media influenced everyone . Just remember the point no 3 Ayushman. You know that you can make tons of sacrifice for the things which you care .

Indian education system … the need of change

let me start with a quotation of Swami Vivekananda. Education is the manifestation of perfection inside a man. The idea of education was to develop the character and personality of a person inside and outside both. But had we seen the purpose ever! The answer is a straight no. The Indian education system is going through a rough and dark road and to bring it on a specially prepared surface, we have to bring some changes in the education system.

*Medium of language – Over emphasizing on English is giving a negative result. The rural areas and small-town students are mostly affected by this. They don’t understand the language well and in this way, they are losing their grasp on their local linguistic by focusing on the colonial ruled language.

*Financial Literacy – To teach the students how to make money work and manage for you. The role of money in the society and economy. Still, Entrepreneurship is unknown to many students and their teachers too.

*Focusing on a world view, rather than focusing on narrow mindedness- The current education system focuses on nationalism and its good too. But doing too much anything is wrong. Schools should also give a global outlook to students, the game of international relations and business.

*Lack of innovation and no critical thinking- In our country, the rat race is very high and this kills innovation and creativity. The system should encourage the students about thinking in all the possible ways, a 360-degree approach. Rote learning should be diminished.

*Change in teachers-  A whole bunch of new teachers who are well trained and efficient should be brought. In the current ASER report, it is stated that class 8th students are not able to read class 3rd books in govt schools. Whose fault is this!  The teachers should also be judged on the basis of their teachings.  The whole burden should be on teachers, how they are going to make students ready for a highly competitive world.

* Tell the real meaning of Education – In the year 2014, around 22000 students committed suicides, this shows the gap between the students and their education. Teachers should boast students to follow their passion. If the students would love their education, this would seriously eradicate the whole suicide data from the NCRB.

*Emphasis on self-learning- The best way to learn is to learn to self. When Newton discovered the law of gravity, there was no one to teach him about it.  He himself introduced this law to the world. The government should promote institutes like Ignou more.

*Benjamin Franklin’s way- Tell me and I forget, Teach me and I remember. Involve me and I learn. In simple words Learning by doing.

*Reducing commercialization and poor governance in higher education – The quality assurance and accreditation mechanism should acknowledge the transformative role of education.

*Should focus more on high-quality education in India- According to a report of TISS, Indians spend 45000 crores every year for higher education in foreign lands. Just imagine if the Indian govt would invest in good institutions in India. The money will remain in India only and would help India in better ways. This will also stop the brain drain game.

*Need of more IITs, IIMS, and other fine arts college-  We need an IIT and IIM in every state and we also need more liberal arts colleges. Arts can promote moral and integrity in a person.

Ending with few lines from the book WINGS OF FIRE of our former president of India to show he was also concerned about the education system. The only line prominently drawn in our country today is between the heroes and the zeroes. On one side there a few hundred heroes keeping 950 million down on the other side. This situation has to be changed.

Fairness in Journalism is a myth.

In 1937 a famous book written by Napolean Hill “Think And Grow Rich” came. This was a brain-storming book which changed lives of million. In this book of that era, quoted some lines related to Journalism ‘ Newspapers of the future, to be conducted successfully, must be divorced from “special privilege” and relieved from the subsidy of advertising

Recently a dissension has taken place all over the country of three news professionals, out of two who resigned and one went for holidays of Abp news.

This lighten the condition of Journalism in India. The Wire published one of those news professional Mr Punya Prasun article which he sent them regarding what happened with him and why he resigned. In that article he briefed that how he was pressurized to resign, and how his news shows were affecting the channel’s business model.

In past few months back ,a sting operation “Operation 136” was headed by Cobra Post organisation. In this sting operation a reporter in disguise met senior officials of different media organisation more than two dozens regarding his agenda. And in astonishment the two dozens media organisation were ready to advocate his agenda in favour of money. The media organisations included both Print and Television medium. But none of this news took place in the heart of Tvs and Newspapers. Only some news organisation like Ndtv , Indian express, The Wire, Newslaundary reported it.

The above two incidents are enough to describe fairness in Journalism.

Now let’s come to a third angle, the caste angle of main stream Media .The fact is that if a Dalit is raped or murdered, it rarely makes the headlines unless there is a motivation to highlight overall discrimination against so-called lower castes as has happened in the recent past. And there is of course the ‘tyranny of distance’ factor. Living in a media hub in the city of Delhi, incidents in and around the Capital tend to get blown up. Not just in the local pages but also the national pages of newspapers across the country. And on that front, we all are guilty.

The mainstream English newspapers have only 2% space for the rural India which is the original India where 70% of population still live. In the book “Everyone loves a good drought” P.A Sainath criticised the mainstream media for not showing the important and useful information which can be beneficiary for the people.
Traffic sources for most media sites are biased towards the upper classes. While improvements have been made in dealing with India’s literacy problems and while mobile data has become far more affordable, the fact is that most people only consume news about what impacts them.
The Internet might have democratised news but it also made that problem worse; many people might read about the shelter home in Bihar, do a cursory ‘tut-tut’ about it and move on to the antics of a Bollywood star instead. You read and you consume the news about you and people like you.

These all problems are due to the business model of Media organisations where they are not thinking of an alternative way of revenue instead of advertisement. And if the Indian Media will not think upon it , soon they would kill the democracy of India through their own hands. And due to all these consequences, Fairness in Journalism is a myth.

News for Trp and Catchy headlines are not news. News is that which is not in news. And people should also understand the difference between News, Opinions and Information.

Atheism and me

Whenever you meet any theist , you should ask him why you are so religious and what’s the logic behind this? He will answer we are theists because the theologians have told us that there is religion and there is a God. Have you seen any God till the time! he/she will answer no .

I consider the Vedas, Upnishads,Bible, Quran and any religious books just as story books which teach us good things which we don’t even follow.

We all love story telling because it gives us excitement, pleasure, jovial etc etc.

Same in that case when the people of that era who lived that period of time thought that they should give the upcoming generations a motive to live with. So, they created a subject like God and created rule books named as holybooks.

The eternal truth and the principles of life were antedate to religions.
From the book “The power of Subconcious mind” by Joseph Murphy.

Today also, when we see someone who has out of box thinking, we consider him/her as intellectual. Same in the case when the oldest religion was formed , the theologians were the intellectuals of that time and people followed them without questioning.

The theory of other religions came with this prospect only, people with brain formed new religion with the alternatives of the former religion. In this way religions were practised everywhere blindly.

Theists and Science

Every theists will say you that God created this whole universe and its creatures.

Let us talk about the universe first. The world renowned scientist Stephen Hawking in his book “The Grand Design” had written the big bang theory has created this whole universe, not the creators. We all are seeing only one planet which is Earth but the Universe is so vast that we couldn’t have opinion about their fates too.

According to him, the story started with the quantum mechanics. Due to law of gravity, the Universe can and will itself create from nothing.

The theory of Darwin stated that humans were evolved from the apes. So apes and other creatures were first to come into this planet before the humans.

The planet Earth at first was covered with the ice. Life on the Earth was dominated by simple bacteria up until about 650 million years ago when more complex form of life suddenly took over.

Scientists in Australia and Germany claimed the pivotal moment that set life on Earth. The process went from insects to dinosaurs and then humans.

The revolution of Ecosystem started and then the giant glaciers were turned to powder, which gave life giving nutrients such as phosphates. The newly temperate climate and sudden influx of food created the perfect conditions for the comolex life- algae that are the ancestors of us all.

Remember to look up at the stars and not down at your feet. Try to make sense of what you see and wonder about what makes the Universe exists.(Stephen Hawking)

For Hawking, the meaning of life was “be curious and however difficult life may seem, there is always something you can do and succeed at.”

(A proud atheist who believe in himself not in the Gods or the Demi Gods. )

आने वाले समय की पत्रकारिता

आज से पांच साल पहले, 2014 में 65 वर्षीय पॉल स्टिगेर, जो करीब 16 साल तक वाल जर्नल के मैनेजिंग एडिटर के पद पर थे। उनके दिमाग में एक विचार आया कि क्यों ना पत्रकारिता को एक नए प्रारूप में ढाला जाए, जो परंपरागत मीडिया संस्थानों से विभिन्न हो। इस सोच के साथ पॉल ने एक नए न्यूज़ रूम की स्थापना की जो गैर लाभकारी, सरकारी तंत्र और विज्ञापनों से दूर था। इस नए न्यूज़ रूम का नाम था प्रोपब्लिका।

पॉल का मकसद था कि उन खबरों पर काम करना जिनसे मेन स्ट्रीम मीडिया अपनी दूरी बनाए रखती थी। और पॉल ने इसमें कामयाबी भी पाई और उन्होंने अपने न्यूज़ के लिए लोगों से ही रुपये लेकर अपनी पत्रकारिता को क्राउड फंडिंग के नए प्रारूप में बदल दिया।

हालांकि क्राउड फंडिंग कोई नया नही है, पिउ रिसर्च सेन्टर के मुताबिक 28 अप्रैल, 2009 से 15 सितंबर 2015 तक किकस्टार्टर जो सबसे बड़ा हब है क्राउड फंडिंग पत्रकारिता का, उन्होंने इतने सालों में लोगों के द्वारा करीब $6.3 मिलियन जुटाए। इसी तरह 2009,2010,2014 और 2015 में 17, 64, 168, 173 क्राउड फंडिंग पत्रकारिता वेबसाइट्स की शुरुआत हुई। कुछ अन्य वेबसाइट्स जो कि क्राउड फंडिंग पत्रकारिता कर रही है , उनमें कंट्रीब्यूटोरिया, द कैनरी, पटरियों शामिल हैं।

क्राउड फंडिंग आज के डिजिटल दौर में एक गैर परंपरागत तरीके की पत्रकारिता है जो लोगों के लिए और लोगों के लिए ही चलाया जा रहा है. जिस तरह एक डॉक्टर अपने मरीजों से अच्छे स्वास्थ्य के लिए पैसे लेता है, उसी तरह आने वाले समय में हमें अच्छे ख़बरों के लिये रुपये देने होंगे।

भारत में भी होचुकी शुरुआत

द वायर जो कि भारत में 2015 को खुला था, उन्होंने अपने खबरों के लिए साल 2016 के अंत तक 1.95 करोड़ रुपए जुटाए और साल 2017 के मार्च अंत तक करीब 1.75 करोड़ रुपए जुटाए। पिछले साल जब सत्ता पक्ष पार्टी ने उनपर 100 करोड़ का केस कोर्ट में किया तो उन्होंने केस लड़ने के लिए भी लोगो से मदद की अपील की थी। इस कड़ी में न्यूजलांड्री, स्क्रोल, युथ की आवाज़ , ऑल्ट न्यूज़ जैसे वेबसाइट्स भी जुड़ चुकी है जो अपने खबरों के लिए लोगों से रुपये मांगती है।

फटकार के बाद रास्ते पर आया फेसबुक

“हमारा सबसे बड़ा लक्ष्य 2018 में ये रहेगा कि हम ये सुनिश्चित करें, जो समय हम फेसबुक वॉल पर खर्च कर रहे हैं वह उस अच्छे समय के रूप में बिताएं जिसे हमने खुद बनाया है.”

मार्क जुकरबर्ग ने अपने इस कथन की दिशा में आगे बढ़ना शुरू भी कर दिया, उन्होंने अपनी इस काल्पिनिक दुनिया में बदलाव करने शुरू कर दिए हैं. इस कवायद का उद्देश्य फेसबुक यूजर्स के बीच पारदर्शिता को बढ़ाना है. स्पष्ट शब्दों में कहें तो डेटा लीक विवाद के बाद फेसबुक पर सख्त हुई अमेरिकी संसद का असर पारदर्शिता के रूप में दिखने लगा है.

2018 के आखिर तक फेसबुक में दिखेंगे ये बदलाव

स्थानीय खबरें ज्यादा प्रचलन में रहेंगी.

खबरे विश्वसनीय स्रोत से मिलेंगी.

अर्थपूर्ण बातचीत पर जोर दिया जाएगा.

कहा जा सकता है कि फेसबुक अपने शुरुआती उद्देश्य की ओर फिर से लौट रहा है. यानी फेसबुक अपने उस अहम उद्देश्य की तरफ लौटने की कोशिश कर रहा है जिसमें वह देश-दुनिया में बिखरे दोस्तों, रिश्तेदारों को एक साझा डिजीटल मंच दे सकने के लिए प्रतिबद्ध था. कुछ बदलाव हो चुके हैं और कुछ होने बाकी हैं. अच्छी बात यह है कि बदलावों का असर दिखने भी लगा है.

कुछ बदला चुका, बहुत कुछ बदलने वाला है

-अगर आप अपना फेसबुक खोलें तो सबसे बड़ी तब्दीली आपको टाइमलाइन पर दिखेगी. इस पर अब आपको अपने परिवार और आपके मित्रगण से सम्बंधित पोस्ट या जानकारी देखने को ज्यादा मिल रही हैं. जबकि पहले न्यूज फीड और विज्ञापनों की भरमार रहती थी.

ये फैसला लेने के पीछे का कारण फेसबुक में भारी मात्रा में गलत खबरों का चलन और लोगों की भावनाओं से छेड़छाड़ होना बताया जाता है. अब फेसबुक के नोटिफिकेशन में आपको उन दोस्तो के नाम दिख रहे हैं जिनको आप जानते हैं लेकिन वे आपसे जुड़े हुए नहीं हैं. फ्रेंडशिप रिक्वेस्ट में ऐसे दोस्तों के नाम बार-बार दिखने शुरू हो गए हैं जिनको आपने कभी देख कर अनदेखा कर दिया था.

-कपड़ो के ब्रांड या किसी कंपनी के सामानों की प्रदर्शनी को फेसबुक ने मार्केट एक्स्प्लोर नाम से एक अलग जगह दे दी है. ताकि आप वहां जाकर पसंद के समान देख सकें या ले सकें.

-इसमें जल्दी ही सबसे बड़ा बदलाव जो देखने को मिलेगा वह यह कि काफी समय से न्यूजफीड में कपड़ो के ब्रांड, किसी खास चीज के व्यपार संबंधित खबर या मीडिया हाउसेस द्वारा शेयर की जा रहीं खबरें अब आपको आने वाले समय में कम दिखेंगी, क्योंकि फेसबुक चाहता है कि इन पेशेवरों की जगह आपके दोस्त या परिवार लें.

पारदर्शिता की ओर फेसबुक ने कदम तब बढ़ाया जब उस पर आरोप लगा कि उसने अमेरिकी चुनाव के दौरान 50 मिलियन से अधिक लोगों के डेटा को कैम्ब्रिज एनालिटिका नाम की एक पॉलिटिकल कन्सलटेंसी फर्म से राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और रूस की मदद के लिए उपभोक्ताओं के डेटा को साझा किया.

इस खबर से पूरी दुनिया में हड़कंप मच गया. मार्क जुकरबर्ग ने 5 दिनों के बाद माना कि फेसबुक ने डेटा शेयर किया था. इसके लिए उनको वहां की विधि निर्माता कांग्रेस के सामने गवाही देनी पड़ी और तीन दर्जन से भी ज्यादा बार माफी मांगनी पड़ी.

मार्क जुकरबर्ग वह व्यक्ति हैं जिसकी कंपनी दुनिया की 8वी सबसे बड़ी कंपनी के रूप में दर्ज है, जिनके बारे में अनुमान लगाया जाता है कि वो शायद 2020 का अमेरिकी राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ें और दुनिया के सबसे ताकतवर देश का नेतृत्व करें.

फिलवक्त उन्हें 21 बिलियन फेसबुक यूजर्स का खोया भरोसा लौटाने में काफी मेहनत करनी पड़ रही है. इसी खोए भरोसे को वापस लाने की कवायद के तहत ही फेसबुक ने सारी जानकारी लोगों से साझा कर दी है.

फेसबुक ने लोगों को बेहद पारदर्शी तरह से बता दिया है कि कैसे वह डेटा इकट्ठा करते हैं और उस डेटा का क्या करते हैं. फेसबुक ने अपने यूजर्स का विश्वास दोबारा पाने के लिए इमानदारी और सच्चाई के साथ कई बातें कुबूल कीं और जहां विवाद था उन जानकारियों को साझा भी किया.

अपने यूजर्स के साथ फेसबुक ने साझा कीं ये जानकारियां

फेसबुक ने डेटा को लेकर सारी जानकारी डेटा पॉलिसी में साझा कर दी हैं. डेटा पॉलिसी में जाने के लिए आपको सेटिंग के जरिए प्राइवेसी शार्टकट्स में क्लिक करना होगा.

यहां आपको डेटा पालिसी शॉर्टकट मिलेगा. इसमें जाकर कोई भी यूजर फेसबुक के बारे में पूरी जानकारी ले सकता है. जैसे फेसबुक कैसे डेटा एकत्र करता है और कैसे जानकारी देता है.

फेसबुक यह भी बताता है कि हम किन लोगों के साथ ज्यादा इंटरेक्ट करते हैं या चैट करते हैं.

फेसबुक यह भी बताता है कि इस आभासी दुनिया में आपका नेटवर्क कैसा है?

फेसबुक के माध्यम से आप जो भी खरीदते हैं उसकी जानकारी तो डेटा पॉलिसी में सुरक्षित होगी ही साथ ही हमारी प्लास्टिक मनी यानी डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, हमारे शिपिंग और कांटेक्ट डिटेल्स भी फेसबुक के पास मौजूद है.

जिस डिवाइस में आप फेसबुक का इस्तेमाल कर रहे हैं उसकी जानकारी भी फेसबुक के पास है.

हमारे फेसबुक के साथ जुड़े किसी भी एेप या वेबसाइट से भी फेसबुक हमारी जानकारी ले रहा है.

आप एकाउंट्स सेटिंग में जाकर अपने एेप को कभी भी एडिट कर सकते हैं.

डेटा पॉलिसी में आपको ये भी पता चल जाएगा कि आपने किन विज्ञापनदाताओं के एड्स को क्लिक किया है.

यहां ये भी पता चल जाएगा कि किन विज्ञापनदाताओं ने आपकी जानकारी के साथ संपर्क सूची जारी की है.

किन विज्ञापनदाताओं की एेप को आपने अपने काम के लिए इस्तेमाल किया है.

किस तरह के विज्ञापन आपने देखे हैं.

फेसबुक ने अपने ऊपर लगे इल्जाम और उठे सवालों का जवाब देने के लिए ‘डेटा पॉलिसी’ के जरिए पारदर्शिता को बढ़ावा दिया. लेकिन फेसबुक का पारदर्शिता की तरफ बढ़ा ये कदम आने वाले समय में उसके लिए नुक्सानदायक साबित हो सकता है. दरअसल जब यूजर्स को पता चलेगा कि उनके बारे में छोटी से छोटी जानकारी फेसबुक के पास हैं तो कई लोग अपना एकाउंट बंद कर सकते हैं.

25 मई को यूरोप में जेनरल डेटा प्रोटेक्शन रेगुलेशन एक्ट लागू होने जा रहा है. यह एक्ट फेसबुक के लिए दूसरी सबसे बड़ी चोट साबित होगा. फिलहाल फेसबुक ने पारदर्शिता की नीति अपनाकर दूसरी सोशलसाइट्स के लिए चुनौती पेश कर दी है.

आयुष्मान कश्यप इंडिया टुडे मीडिया इंस्टीट्यूट के छात्र हैं और इंडिया टुडे में प्रशिक्षु हैं

विश्व जल दिवस, बस बोलने भर

पानी रे पानी तेरा रंग कैसा, जिसमे मिला दो तो लगे उस जैसा, ये गाना पानी की महत्वता को दर्शाता है।

कल विश्व जल दिवस था, पूरे सोशल मीडिया में लोग पानी के जरूरत को अपने तरीके से बता रहे थे।

लेकिन क्या जरूरत बताने से हम पानी का सही ढंग से इस्तेमाल करते है, क्या बिल्कुल भी पानी की बर्बादी बन्द होचुकी है।

नही ऐसा बिल्कुल भी नही है और ना ही मैं आपको कोई डेटा दूंगा इससे जुड़ी हुई क्योंकि समझ में वो तो आएगी नही।

यार ये समझ नही आता कि लोगों की समस्या क्या है, पानी बर्बाद करना तो अब नए दौर की फैशन बन चुकी है।

क्या हमलोग को अपने आने वाली पीढ़ी की बिल्कुल भी चिंता नही, क्या हमारा दायित्व नही बनता कि हम लोगों को अपने तरफ से जागरूक करे ताकि वो भी पानी बचाये।

आदमी पानी के बिना तो 20 दिन जी सकता है लेकिन पानी के बिना 4 दिन भी नही जी सकता है, ये बात हमारे भेजे में कब आएगी।

बस सोशल मीडिया में #worldwaterday को ट्रेन्ड कराने से क्या हमारी जिम्मेदारी पूरी होजाती है।

नहीं जबतक हम खुद पानी को सही तरीके से इस्तेमाल नही करेंगे और सामने वाले को सीख नही देंगे तबतक कुछ भी बदलने वाला नही है।

पूरी दुनिया में पानी की किल्लत बढ़ते जा रही है, लेकिन मैं पूरी दुनिया की बात नही करूँगा, करूँगा तो बस अपने देश भारत की, क्योंकि शर्म तो हमें आती नही।

जैसे जैसे हमारा देश आगे बढ़ते जा रहा है, हमारी नदियां और गन्दी होते जा रही है, किसानों को खेती करने के लिए पानी ढंग से उपलब्ध नही हो पा रहे लेकिन फिर भी हम पानी बर्बाद करने से पीछे नही हट रहे।

किसी को पीने के लिए पानी नही मिलता है लेकिन किसी के पास पानी बर्बाद करने से फुर्सत नही मिलती है। लोगों को ये समझना होगा कि जबतक जल है तबतक हम है।

पानी के कमी के चलते जो प्रवासी पक्षीं जो कभी हमारे देश में विश्राम करने के लिए आया करती थी उनका घूमने आना भी बंद होचुका है, हालात ऐसे ही रहे तो जिन गौरैय्या और मैना को देखते हुए हमारा बचपन बीता है, आने वाले समय में उन चिड़ियों को हमारे बच्चे नही देख पाएंगे।

जल ही जीवन है, एक बूंद पानी को बर्बाद करके हम अपनी बर्बादी की ओर बढ़ रहे है । गर्मी आते ही सूखा पड़ जाता है, गांव शहरों मे लोगो को दिक्कत होने लगती है, अगर हम इन चीज़ों को सोचते हुए पानी बचाने की कोशिश करे तो बहुत हद तक बहुत कुछ सही होगा।

इस साल हमारे देश में बहुत बड़ी चुनौती ये भी है कि नदी नालों में बर्बाद होरही पानी को बचाना होगा, अगर ऐसा नही हुआ तो जो लोग गाँव से उठकर शहरों की तरफ अपने कदम बढ़ा रहे है, उनको बहुत दिक्कत होगा।

हमारी जिम्मेदारी है ये की हम अब कदम उठाए और इस परेशानी को खत्म करे वरना लानत है अपने को देश का भविष्य बताने में ।

अंत में बस यही बोलूंगा, जैसे सांस लेने के लिए हवा जरूरी है वैसे ही जीने के लिए पानी भी उतनी जरूरी है। आज हम पानी को बर्बाद कर रहे कल याद रखना पानी हमें बर्बाद करेगी।